Home उत्तराखंड उत्तराखंड में 356 हुई ब्लैक फंगस मरीजों की संख्या, अब तक 56...

उत्तराखंड में 356 हुई ब्लैक फंगस मरीजों की संख्या, अब तक 56 मरीजों की हो चुकी है मौत…..

483
SHARE

उत्तराखंड में म्यूकोरमाइकोसिस (ब्लैक फंगस) के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। प्रदेश में आज ब्लैक फंगस के 20 नए मामले सामने आए हैं, जिसके बाद प्रदेश में ब्लैक फंगस के कुल मरीजों की संख्या 356 हो गई है। वहीं अब तक 31 लोग स्वस्थ भी हो चुके हैं। जबकि मौत का आंकड़ा 56 तक पहुंच  गया है।

म्यूकोरमाइकोसिस (ब्लैक फंगस) के सबसे अधिक मरीज एम्स ऋषिकेश में सामने आए हैं, यहां अब तक 220 मामले दर्ज किए गए हैं जिनमें से 38 मरीजों की मौत हो चुकी है व 6 स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं। दून मेडिकल कॉलेज में ब्लैक फंगस के 19 मरीज भर्ती हैं, जिसमें से 5 मरीज स्वस्थ होकर घर लौटे हैं, मैक्स हॉस्पिटल 10 मरीजो में से 3 स्वस्थ हो चुके हैं, जबकि 1 मरीज की मौत हो चुकी है। महंत इंद्रेश हॉस्पिटल में 27 मरीज सामने आए हैं जिनमें से 3 मरीजों की मौत हो चुकी है व 10 मरीज स्वस्थ होकर घर लौट चुके हैं। एचआईएचटी जॉली ग्रांट में 34 मामले दर्ज किए जा चुके हैं, जिनमें से 6 मरीजों की मौत हो चुकी है व 7 स्वस्थ हो चुके हैं। इसके अलावा आरोग्यधाम अस्पताल में 2 व सिटी हार्ट अस्पताल में 1 मरीज का इलाज चल रहा है। ओएनजीसी अस्पताल में भी 2 मरीज भर्ती है। सिनर्जी अस्पताल में भी 2 मरीज सामने आए जिसमें 1 मरीज की मौत हो चुकी है। वहीं 1-1 मरीज मिलट्री हॉस्पिटल व सूरी डॉयगोनिटिक्स में भी सामने आया है। नैनीताल जनपद की बात करें तो यहां 3 मरीज कृष्णा हॉस्पिटल हल्द्वानी में सामने आए, जिनमें से एक की मौत हो चुकी है, 28 मरीज डॉ. सुशीला तिवारी अस्पताल में सामने आ चुके हैं, जहां 4 मरीजों की मौत हो चुकी है। 1 मरीज तिवारी नर्सिंग होम में भी भर्ती है। 2 मरीज उत्तरकाशी जिला अस्पताल से सामने आया है, 1 मरीज ऊधमसिंहनगर जनपद में भी सामने आया था जिसकी मौत हो चुकी है। वहीं 2 मरीज मिलिट्री अस्पताल रूड़की में भी सामने आए हैं, जिसमें 1 मरीज की मौत हो चुकी है।

वहीं प्रदेश में अब कोरोना संक्रमण की रफ्तार धीरे-धीरे थम रही है, आज प्रदेश मे 388 नए मामले सामने आए, जबकि 3242 लोग स्वस्थ होकर घर लौटे हैं। आज 15 लोगों की मौत भी हुई है। राज्य में अब एक्टिव मरीजों की संख्या 6641हो गई है। प्रदेश में अब सैंपल पॉजिटिव दर 6.66 प्रतिशत है, जबकि रिकवरी दर अब 94.27 प्रतिशत हो गई है।