Home उत्तराखंड उत्तराखंड- कोरोना की दूसरी लहर ने युवा वर्ग को बनाया शिकार..

उत्तराखंड- कोरोना की दूसरी लहर ने युवा वर्ग को बनाया शिकार..

354
SHARE

उत्तराखंड में कोरोना के आंकड़ों में भले ही थोड़ी कमी देखी जा रहा है, लेकिन मौत के आंकडे लगातार डरा रहे हैं, हालांकि प्रदेश में 18 मई को कोरोना से मरने वालों की संख्या 100 से कम थी, लेकिन 19 मई को एक बार फिर यह आंकड़ा 100 से अधिक पहुंचा और 110 लोगों की कोरोना के चलते मौत हुई। बुधवार को प्रदेश में 4492 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज सामने आए थे तो वहीं 7333 लोग ठीक हुए।

स्वास्थ्य सचिव अमित नेगी ने बताया कि प्रदेश में कोविड-19 पॉजीटिवीटी रेट 23 से घटकर 15 प्रतिशत तक आ गया है। प्रदेश में लगातार सैंपलिंग बढ़ाई जा रही है। उन्होंने बताया कि वर्तमान में प्रदेश का कोविड टेस्टिंग रेट राष्ट्रीय औसत के दोगुनी है।

सचिव अमित नेगी ने यह भी बताया कि 1 अप्रैल 2021 के बाद से महिला और पुरुषों के पॉज़िटिविटी आंकड़ों के अनुसार संक्रमित में 62 प्रतिशत पुरुष हैं जबकि 38 प्रतिशत महिलाएं हैं। इसके अलावा सबसे अधिक तीन श्रेणी में युवा आयु वर्ग के लोगों में कोरोना संक्रमण देखने को मिल रहा है। उन्होंने बताया कि सेकंड वेव में संक्रमितों में 20 से लेकर 29 साल की आयु वर्ग के लोगों में 21.9 प्रतिशत, 30 से लेकर 39 साल की आयु वर्ग के लोगों में 24.2 प्रतिशत, 40 से लेकर उम्र 49 आयु वर्ग के लोगों में 18.5 प्रतिशत हैं। इसके अलावा 1 अप्रैल 2021 के बाद 40 वर्ष से 79 आयुवर्ग के लोगों में मौत का औसत सबसे ज्यादा है। उन्होंने जानकारी दी कि कोरोना डेथ में 40 से 49 वर्ष तक की आयु वर्ग के लोगों की मृत्यु 17 प्रतिशत, 50 से 59 वर्ष तक की आयु के लोगों की मृत्यु 23 प्रतिशत, 60 से 69 वर्ष तक की आयु के लोगों की मृत्यु 24 प्रतिशत, जबकि 70 से 79 वर्ष तक की आयु के लोगों की मृत्यु 16.42 प्रतिशत लोगों मृत्यु हुई है।