Home उत्तराखंड मंत्रियों व अधिकारियों की लड़ाई में फंसा उपनल का मुद्दा, उपनल कर्मी...

मंत्रियों व अधिकारियों की लड़ाई में फंसा उपनल का मुद्दा, उपनल कर्मी फिर आंदोलन की राह पर…

1063
SHARE

उत्तराखण्ड मंत्रिमंडल की तीसरी बैठक में भी उपनल कर्मचारियों के मानदेय व अन्य मांगों का प्रस्ताव शामिल नहीं किए जाने से फिर उपनल कर्मचारियों ने आंदोलन की चेतावनी दी है। मंगलवार को उपनल कर्मचारी सैनिक कल्याण मंत्री गणेश जोशी का आवास घेरेंगे तो वहीं बुधवार को कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत का आवास घरेने का ऐलान किया है।

उपनल कर्मचारियों का कहना है कि मंत्री हरक सिंह रावत और गणेश जोशी के आश्वासन पर ही उन्होंने अपनी हड़ताल वापस ली थी। तब से उपनल कर्मियों को केवल आश्वासन ही दिए जा रहे हैं। सब कमेटी दो बार बैठक कर चुकी है, मानदेय बढोत्तरी का प्रस्ताव बना चुकी है। हर बार मंत्रीगण कहते हैं कि कैबिनेट में प्रस्ताव जरूर आएगा पर आता कभी नहीं है। सरकार के इस रवैये से उपनल कर्मचारी खुद को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं।

वहीं उपनल कर्मियों के मानदेय का प्रस्ताव कैबिनेच एजेंडे में शामिल न होने पर मंत्रियों ने अफसरों की कार्यप्रणाली पर कड़ी नाराजगी जताई है। उपनल सब कमेटी के अध्यक्ष श्रम मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत और सैनिक कल्याण मंत्री गणेश जोशी ने दो टूक कहा कि जब प्रस्ताव समय पर आने ही नहीं हैं तो फिर सब कमेटी बनाने का लाभ ही क्या..?

प्रमुख सचिव सैनिक कल्याण एल फैनई का कहना है कि प्रस्ताव अभी प्रक्रिया में है, इसका विभिन्न स्तर पर अध्ययन जारी है। नियमानुसार कैबिनेट एजेंडे के लिए विभाग गोपन विभाग को प्रस्ताव भेजता है। इसके बाद गोपन विभाग एजेडा तय कर कैबिनेट में प्रस्ताव रखता है। शासकीय प्रवक्ता सुबोध उनियाल ने बताया कि कैबिनेट की सब कमेटियों की रिपोर्ट को समयबद्ध किया जा रहा है। भविष्य में एक तय समय सीमा में विषय का अध्ययन, रिपोर्ट और उस पर निर्णय लिया जाएगा।