Home उत्तराखंड पर्यटक करने लगे पहाड़ों का रूख, क्या खत्म हो गया कोरोना का...

पर्यटक करने लगे पहाड़ों का रूख, क्या खत्म हो गया कोरोना का खौफ..?

262
SHARE

उत्तराखंड में कोरोना के मामलों में अब लगातार गिरावट देखी जा रही है, सरकार ने अब बाजार खोलने का समय भी बढ़ा दिया है तो वहीं 50% सीटिंग क्षमता के साथ रेस्टोरेंट भी खोले जा रहे हैं। वहीं सोमवार को जारी की गई एसओपी में 50% क्षमता के साथ सभी मॉल खोलने की इजाजत भी दे दी गई है। इसके अलावा पर्यटन स्थलों वाले बाजारों को सप्ताहांत में भी खोलने की इजाजत दी गई है। छूट मिलते ही पर्यटन स्थलों पर काफी संख्या में सैलानी पहुंचने लगे हैं, तीसरी लहर की चेतावनी के बावजूद पर्यटकों की ये भीड़ कोरोना को दावत दे रही है।

कोरोना की दूसरी लहर में अस्पतालों में बेड ऑक्सीजन तक की कमी पड़ गयी लेकिन लोगो ने तब भी कोई सबक नही लिया। कोरोना की दूसरी लहर फ़िलहाल तो शांत हो रही है लेकिन ये तूफान के आने से पहले की शांति है क्योंकि लोगो की लापरवाही कोरोना की तीसरी लहर में भारी पड़ सकती है। कोविड केस कम होते ही सरकार ने कोविड कर्फ्यू में ढील दी तो उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में टूरिस्ट भारी मात्रा में पहुंच रहे हैं, यहां मसूरी, देहरादून, नैनीताल में पर्यटकों की आमद भी बढ़ने लगी है। मैदानी इलाकों में पड़ने वाली गर्मी से निजात पाने हर रोज यहाँ हज़ारों सैलानी पहुंच रहे हैं।

देहरादून के सहस्त्रधारा में लोग बेखौफ होकर पानी में डुबकी लगा रहे हैं, बिना मास्क लगाए जहां- तहां घूम रहे हैं। नैनीताल से सामने आई तस्वीरें भी यही बयां कर रही हैं कि अब लोगों में कोरोना का डर खत्म हो गया है। लोग बिना मॉस्क लगाए मॉल रोड पर घूमते नजर आ रहे हैं,डिस्टनसिंग के नैनीताल में जहाँ तहां घूम रहे है। गाइडलाइंस के मुताबिक बिना कोरोना निगेटिव जांच के उत्तराखंड में प्रवेश वर्जित है, लेकिन बावजूद इसके उत्तरप्रदेश, दिल्ली, हरियाणा जैसे कई शहरों से बिना कोविड निगेटिव रिपोर्ट के भी सैलानी यहां पहुंच रहे हैं। कोरोना गाइडलाइंस में तो ये लोग लापरवाही कर ही रहे हैं साथ ही उत्तराखंड में गंदगी का अंबार भी लगा रहे हैं, टूरिज्म कारोबार को तो धीरे-धीरे रफ्तार मिलने लगी है, लेकिन इसका नुकसान आने वाले समय में उत्तराखंड की जनता को भुगतना पड़ सकता है, क्योंकि यही टूरिस्ट उत्तराखंड को कोरोना की तीसरी लहर की सौगात देकर जा सकते हैं।