Home उत्तराखंड कोरोना की संभावित तीसरी लहर से बच्चों को बचाने के लिए सरकार...

कोरोना की संभावित तीसरी लहर से बच्चों को बचाने के लिए सरकार की यह है खास तैयारी…

378
SHARE

कोरोना की तीसरी लहर का सबसे अधिक प्रभाव बच्चों पर पड़ने की बात कही जा रही है, तीसरी लहर से बच्चों क महफूज रखने के लिए उत्तराखंड सरकार भी तैयारियों में जुटी है। इसके लिए सरकार ने बच्चों को विशेष इम्यूनिटी बोस्टन डोज दिए जाने का ऐलान किया है। सरकार द्वारा कोरोना के प्रभाव को कम करने के उद्देश्य से व्यस्कों को आइवेरवैक्टिन नामक दवाई घर- घर बांटी जा रही है, वहीं अब कोरोना की संभावित तीसरी लहर में बच्चों के ज्यादा संक्रमित होने की आशंका को देखते हुए 18 साल तक के बच्चों को विशेष खुराक दिए जाने की तैयारी है।

कोरोना से बचाव के लिए राज्य सरकार को सुझाव देने वाली तकनीकी समिति ने सरकार से इसकी सिफारिश की थी, जिस पर सरकार की ओर से आदेश जारी कर दिया गया है। हेमवती नंदन बहुगुणा मेडिकल विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. हेम चन्द्र पांडे की अध्यक्षता में बनी कमेटी में शामिल बाल रोग विशेषज्ञों ने बच्चों के इलाज के लिए पूरा प्रोटोकॉल बनाकर सरकार को भेजा था इसमें पूरे प्रदेश में विशेष सप्लीमेंटेशन कार्यक्रम चलाए जाने की वकालत की गई थी, कोरोना की वजह से बच्चों के पोषण एवं इम्युनिटी के लिए चलने वाले कार्यक्रमों के प्रभावित होने की वजह से यह कार्यक्रम चलाया जाएगा।

सरकार को सलाह दे रही तकनीकी समिति के अध्यक्ष प्रो. हेम चन्द्र पांडे ने बताया कि कोरोना की संभावित तीसरी लहर में बच्चों के ज्यादा संक्रमित होने की आशंका जताई जा रही है। इसी के मद्देनजर बच्चों की इम्यूनिटी मजबूत करने को लेकर उन्हें माइक्रोन्यूट्रेंट देने और सप्लीमेंट प्रोग्राम चलाने की सिफारिश की गई थी, जिसमें सरकार ने आदेश कर दिया है, बच्चों के इलाज के लिए विस्तृत प्रोटोकॉल बना दिया गया है। वहीं इलाज के लिए अस्पतालों में व्यापक व्यवस्थाएं की जा रही हैं।

कमेटी के सचिव दून मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. आशुतोष सयाना ने बताया कि बच्चों के उम्र ग्रुप अलग- अलग बनाए गए हैं। जिसके हिसाब से उन्हें बूस्टर दिए जाने की डोज तय की गई है, वहीं किस समय क्या डोज देनी है वह भी तय किया गया है। बूस्टर में विटामिन ए, विटामिन डी, जिंक ओमेगा थ्री, सिलेनियम शामिल है।