Home अपना उत्तराखंड अल्मोड़ा पहाड़ के गिरीश आर्य पर टूटा दुखों का पहाड़, शरारती तत्वों ने...

पहाड़ के गिरीश आर्य पर टूटा दुखों का पहाड़, शरारती तत्वों ने मछलियों के तालाब में विषैला पदार्थ डालकर मछलियां मार डाली….

725
SHARE

उत्तराखण्ड के कई युवाओं ने स्वरोजगार की राह कामयाबी की नई इबादल लिखी है, औऱ दूसरे युवाओं के लिए भी युवाओं के लिए भी प्रेरणास्त्रोत बने हैं। लेकिन कुछ स्वरोजगार के दुश्मनों को युवाओं की यह कामयाबी रास नहीं आ रही है। और साजिशन किसी की वर्षों की मेहनत पर पानी फेर रहे हैं। ऐसा ही एक मामला अल्मोड़ा जनपद के द्वाराहाट तहसील से सामने आया है, जहां गवाड गांव निवासी गिरीश राम आर्य ने वर्षों की मेहनत के बाद तालाब में मछलियां पाली और जब बेचने का समय आया तो कुछ लोगों ने विषैला पदार्थ डालकर उनकी सारी मछलियों को मार दिया। गिरीश का आरोप है कि किसी ने साजिशन तालाब में जहरीला केमिकल मिलाया है जिससे तालाब की सारी मछलियां मर गई। तालाब में करीब एक कुंतल से ज्यादा मछलियां थी। गिरीश ने इस घटना पर पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है और जांच की मांग की है।

गिरीश राम आर्य की यह आपबीती वरिष्ठ पत्रकार रमेश भट्ट ने अपने फेसबुक पर शेयर की है, और इस तरह का कृत्य करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है। उन्होेंने लिखा है ये कैसी पहाडियत है ? दूसरों को आगे बढ़ते देख हमारे भीतर जलन का ये भाव क्यों आ जाता है? एक दूसरे को नीचे गिराने की सोच हमें खोखला कर रही है। जिन लोगों ने यह कृत्य किया है उनको #कठोरदंड मिलना चाहिए। यह घटना एक नज़ीर बननी चाहिए। ताकि कोई भी ऐसी हिमाक़त भविष्य में न करें। उन्होंने इस दुख की घड़ी में लोगों से गिरीश राम आर्य की मदद करने की भी अपील की है।