Home अपना उत्तराखंड उत्तराखंड के कई ग्रामीण अंचलों को, इंटरनेट बैलून से मिलेगी इंटरनेट कनेक्टिविटी

उत्तराखंड के कई ग्रामीण अंचलों को, इंटरनेट बैलून से मिलेगी इंटरनेट कनेक्टिविटी

1950
SHARE

 देहरादून: प्रदेश के अभी कई ऐसे इलाके है जहाँ इन्टरनेट की सुविधा नहीं है इन्हीं गाँवों को इन्टरनेट सेवा मुहेया करने के लिए आईआईटी मुंबई और उत्तराखंड आईटी डेवलपमेंट एजेंसी (यूआईटीडीए) के द्वारा प्रोजेक्ट को नवंबर अंत तक लांच किया जाएगा. इस पूरे प्रोजेक्ट पर लगभग 50 लाख रुपये की लागत आ रही है. जबकि,  अभी तय नहीं है कि पहला गुब्बारा कहां उड़ाया जाएगा और किस क्षेत्र के गांवों को इसका लाभ मिलेगा।

  • हीलियम गैस का यह गुब्बारा कनेक्टिविटी उपकरणों को साथ लेकर आसमान में 100 किलोमीटर की ऊंचाई पर उड़ते हुए 20 से 30 किलोमीटर तक की रेंज में इंटरनेट और मोबाइल कनेक्टिविटी पहुचायेगा.
  • उत्तराखंड में उड़ने वाला यह गुब्बारा देश का पहला इंटरनेट बैलून होगा।

उत्तराखंड के पहाड़ी आपदाग्रस्त इलाकों में यह सेवा उपयोगी साबित होगी –

इस गुब्बारे में हीलियम गैस भरी जाएगी और इस गुब्बारे में एक एंटीना होगा, जो जमीन पर मौजूद बेस स्टेशन से जुडेगा. सिग्नल ऑन होते ही गुब्बारे का एंटीना पूरे क्षेत्र में कनेक्टिविटी देना शुरू कर देगा. इस तकनीक से पहाड़, मैदान या दुर्गम रेगिस्तानी इलाकों में भी कनेक्टिविटी दी जा सकेगी. बैलून की खासियत यह है कि यह किसी भी मौसम में काम कर सकता है.  ऐसे में प्राकृतिक आपदाओं के दौरान त्वरित राहत-बचाव और सूचनाओं के आदान-प्रदान में यह मददगार साबित होगा.