Home अपराध हल्द्वानी में दिन-दहाड़े बुजुर्ग महिला की गला रेत कर हत्या, पुलिस जांच...

हल्द्वानी में दिन-दहाड़े बुजुर्ग महिला की गला रेत कर हत्या, पुलिस जांच में जुटी।

1143
SHARE

उत्तराखंड की शांत वादियों में आपराधिक घटनाएं लगातार बढ़ती जा रही हैं। लूटपाट की घटनाओं के साथ अब हत्या की घटनाओं में भी इजाफा होने लगा है। बात नैनीताल जिले की कि जाए तो हल्द्वानी शहर में अपराध लगातार बढ़ रहा है। आज भी हल्द्वानी में एक बुजुर्ग महिला की हत्या का मामला सामने आया है, जिसकी वजह से पूरे हल्द्वानी में सनसनी फैल गई है।

मामला हल्द्वानी के टीपीनगर चौकी क्षेत्र का है, जहाँ करायल जौलासाल गांव में बुजुर्ग महिला की गला रेत कर हत्या कर दी गई। बताया जा रहा है कि जिस वक्त नृशंस हत्या हुई उस वक्त मृतका का पति घर पर नहीं था, लेकिन परिवार के अन्य सदस्य घर पर ही मौजूद थे। हत्या की सूचना पर एसपी सिटी अमित श्रीवास्तव, सीओ शान्तनु पराशर, टीपीनगर पुलिस व फोरेंसिक टीम मौके पर पहुंची और जांच में जुट गई है।

प्राप्त जानकारी के अनुुसार कैप्टन रिटायर राजेन्द्र सिंह साही ने सेना से रिटायर्ड होने के बाद करायल जौलासाल गांव में मकान बनाया था,19 दिसम्बर शाम के वक्त राजेन्द्र शाही जजी में किसी रिश्तेदार के घर गए थे, उनके पीछे घर पर उनकी पत्नी हीरा देवी और परिवार के अन्य सदस्य मौजूद थे, रविवार 20 दिसम्बर की सुबह छोटी बेटी अंजली ने अपने पिता को फोन किया और बताया कि मां को किसी ने मार दिया है।

खबर सुनते है राजेन्द्र सिंह आनन फानन में वापस अपने घर को निकल गए,घर पहुंचने पर उन्होंने देखा कि उनकी पत्नी बिस्तर पर मृत पड़ी थी, पत्नी का गला चाकू से रेता गया था। हत्या की सूचना तुरंत पुलिस को दी गयी, सूचना पर पुलिस अधिकारी भी मौके पर पहुँचे जिसके बाद शव को एम्बुलेंस से शवगृह में भिजवाया गया, फोरेंसिक टीम भी मौके से बरामद चाकू और अन्य तथ्यों के आधार पर जांच में जुट गई है।

आसपास के लोगो के मुताबिक राजेन्द्र सिंह के पास सड़क से लगती हुई करीब दो बीघा जमीन है, उनका बेटा रविन्द्र भी सेना से रिटायर्ड हो चुका है, जबकि सबसे छोटा बेटा राहुल लंबे समय से डिप्रेशन में चल रहा है। राजेन्द्र की चार बेटियां है, दिन दहाड़े हुई इस हत्या से समूचे शहर में सनसनी फैल गयी और एक बार फिर पुलिस की चौकसी पर सवालिया निशान खड़े होने लगे है। फ़िलहाल इस हत्या में पुलिस छानबीन तो कर रही है पर लोगो मे ये दहशत बन गयी है कि अब दिन हो या रात सुरक्षित रहना बहुत मुश्किल होता जा रहा है।