Home उत्तराखंड विश्व पर्यावरण दिवस पर CIMS & UIHMT ग्रुप ऑफ कॉलेज ने 600...

विश्व पर्यावरण दिवस पर CIMS & UIHMT ग्रुप ऑफ कॉलेज ने 600 से अधिक वृक्ष लगाकर लिया पर्यावरण संरक्षण का संकल्प…

410
SHARE

विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर सीआईएमएस & यूआईएचएमटी ग्रुप ऑफ कॉलेज के छात्र-छात्राओं ने भी वृक्षारोपण कर पर्यावरण संरक्षण का संकल्प लिया। कोरोना काल में कॉलेज के चेयरमैन एडवोकेट ललित मोहन जोशी कॉलेज कैंपस में वृक्षारोपण किया तो वहीं कॉलेज के 600 से अधिक छात्र-छात्राओं ने अपने-अपने घरों में वृक्ष लगाए। बता दें कि प्रत्येक वर्ष 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस के रूप में मनाया जाता है। इसे मनाने की वजह मनुष्य जाति को अपने पर्यावरण के प्रति जागरूक करना है। पर्यावरण की वजह से ही आज इंसान और अन्य जीव-जंतुओं का जीवन संभव है। यह दिवस इसी सुंदर प्रकृति को समझने और उससे तालमेल बैठाने के लिए है।

विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर सीआईएमएस & यूआईएचएमटी ग्रुप ऑफ कॉलेज के चेयरमैन एडवोकेट ललित मोहन जोशी ने छात्र-छात्राओं को वर्चुअली संबोधित करते हुए कहा कि पर्यावरण का संरक्षण हम सबकी सामूहिक जिम्मेदारी है। पर्यावरण प्रदूषण से मुक्ति एवं जैव विविधता को बनाये रखने के लिए हमें जन भागीदारी से प्रयास करने होंगे। उन्होंने कहा कि पर्यावरण और मानव के बीच कैसे संतुलन बना रहे, इस दिशा में अनुसंधान की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि हम सब लोगों की सामूहिक जिम्मेदारी और बढ़ जाती है कि करोना महामारी के दौरान सांसों के महत्व को और अधिक बढा दिया है, इसलिए हमें जैव विविधता संरक्षित रखने के लिए आगे आना होगा। उन्होंने कहा कि हम ऐसे समय में विश्व पर्यावरण दिवस मना रहे है जिस समय पूरा विश्व कोरोना महामारी से जूझ रहा है।

 

एडवोकेट जोशी ने बताया कि उत्तराखण्ड के लोग सदियों से पर्यावरण का महत्व समझते हैं, इसीलिए इस भूमि पर जल- जंगलों की पूजा की जाती है। उन्होंने कहा कि हम इंसानों और पर्यावरण के बीच बहुत गहरा संबंध है। विश्व में लगातार वातावरण दूषित होते जा रहा है, जिसका गहरा प्रभाव हमारे जीवन में पड़ रहा है। इस वैश्विक कोरोना महामारी के दौरान अपार मानवीय पीड़ा और हानि हुई हैं। इस कोरोना के समय हमें जिस चीज की कमी सर्वाधिक खली वह थी ऑक्सीजन, अस्पतालों में ऑक्सीजन की किल्लत के कारण देश भर में कई मरीजों की जानें चली गईं। हम सभी ने लोगों को एक-एक सांस के लिए तरसते देखा है और हमने इसकी कीमत का अनुभव किया। इसलिये हमें विश्व पर्यावरण दिवस के इस अवसर पर इन चीजों को याद रखने की आवश्यकता है।