Home अपना उत्तराखंड अल्मोड़ा अल्मोड़ा- कोविड-19 की संभावित तीसरी लहर के दृष्टिगत जिलाधिकारी ने बचाव की...

अल्मोड़ा- कोविड-19 की संभावित तीसरी लहर के दृष्टिगत जिलाधिकारी ने बचाव की तैयारियों को लेकर दिए ये निर्देश….

52
SHARE

कोविड-19 की तीसरी लहर की सम्भावना को दृष्टिगत रखते हुए जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया ने कैम्प कार्यालय में पूर्व तैयारियों को लेकर बैठक ली, निर्माणाधीन ऑक्सीजन प्लान्टों को निर्धारित समय सीमा के अन्तर्गत पूर्ण कर सुचारू करना सुनिश्चित करने के निर्देश कार्यदायी संस्थाओं को दिये। डीएम ने कार्यदायी संस्थाओं को सख्त हिदायत देते हुए कहा कि कार्य की गुणवत्ता के साथ कोई समझौता नहीं किया जायेगा एक सप्ताह के भीतर सभी प्लान्टों को पूर्णरूप से तैयार किया जाय।

जिलाधिकारी ने कहा कि ऑक्सीजन प्लान्टों की क्षमता पर्याप्त होने के साथ ही 1000 लीटर अतिरिक्त क्षमता की ऑक्सीजन रिर्जव रखने की व्यवस्था भी बनाये रखने को कहा। उन्होंने कहा कि कोविड की तीसरी लहर की सम्भावना को दृष्टिगत करते हुए सम्पूर्ण तैयारी की जानी है जिससे नौनिहालों को इस तीसरी लहर के प्रकोप से बचाया जा सके। जिलाधिकारी ने रानीखेत अस्पताल में बनाये जा रहे ऑक्सीजन प्लान्ट के कार्य प्रगति की भी जानकारी ली। इस पर बताया गया कि प्लान्ट का कार्य प्रगति पर है एक सप्ताह में प्लान्ट तैयार होकर कार्य करना शुरू कर देगा।

जिलाधिकारी ने अल्मोड़ा मेडिकल कालेज के अवशेष कार्यों की भी समीक्षा की। उन्होंने कहा कि मेडिकल कालेज में सत्र शुरू करने में अनावश्यक विलम्ब हो रहा है। कार्यदायी संस्थायें अवशेष कार्यों को यथाशीघ्र सम्पन्न करायें। उन्होंने मेडिकल कालेज को जोड़ने वाली सड़क, पेयजल संयोजन, सीवर लाईन की व्यवस्था तत्काल करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि मेडिकल कालेज में निर्माणाधीन तीनों ऑक्सीजन प्लान्टों को लिंक कराया जाना है ताकि किसी भी प्लान्ट में ऑक्सीजन की कमी होने पर तत्काल दूसरे प्लान्टों से आपूर्ति की जा सके।

 

उन्होंने कहा कि मेडिकल कालेज के ओटी ब्लॉक, नर्सेज हास्टल, डाक्टर आवास आदि की व्यवस्थायें दुरूस्त की जाय। उन्होंने निर्माणदायी संस्था को कठोर चेतावनी देते हुए कहा कि एक सप्ताह के भीतर सभी कार्य दुरूस्त किये जाय जिसकी निगरानी मुख्य विकास अधिकारी द्वारा की जायेगी। उन्होंने कहा कि मेडिकल कालेज के अधूरे कार्यों को यथाशीघ्र पूर्ण न करने की दशा में कार्यदायी संस्था के विरूद्ध वैधानिक कार्यवाही अमल में लायी जायेगी।
उन्होंने बताया कि डाक्टरों के आवास निर्माण हेतु 30 नाली भूमि उपलब्ध है, जिसके लिए शासन को प्रस्ताव भेजा जायेगा। जिलाधिकारी ने मेडिकल कालेज में स्टॉफ की कमी को देखते हुए बेस अस्पताल के स्टॉफ को सम्बद्व करने के निर्देश दिये।