Home अपराध प्रद्युम्न हत्याकांड में नया मोड़ पुलिस ने नशे का इंजेक्शन लगाकर, दिलवाया...

प्रद्युम्न हत्याकांड में नया मोड़ पुलिस ने नशे का इंजेक्शन लगाकर, दिलवाया कंडक्टर से बयान

1725
SHARE

 गुरुग्राम: गुरुग्राम का चर्चित प्रद्युम्न हत्याकांड को लेकर पूरा देश सदमे में है। 8 सितंबर यानी शुक्रवार के दिन गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशल स्कूल में हुए इस 7 साल के बच्चे की स्कूल के अंदर हत्या कर दी गई। इस घिनौनी वारदात ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया। हालांकि, प्रद्युम्न की हत्या के आरोप में गिरफ्तार बस कंडक्टर ने अपना बयान बदलकर एक बड़ी साजिश का खुलासा कर दिया। Conductor changed his statement.

आरोपी बस कंडक्टर अब बयान से पलट गया 

रेयान इंटरनेशनल स्कूल मामले की जांच में जुटी पुलिस पर सवाल उठाने वाला खुलासा हुआ है। प्रद्युम्न की हत्या का जुर्म कबूलने वाले कंडेक्टर अशोक ने अपना बयान बदलते हुए मीडिया से बातचीत में कहा है कि पुलिस ने जबरदस्ती मामले में फंसाया है। पुलिस ने उसे करंट लगाकर जबरदस्ती जुर्म कबूलने को कहा। हालांकि, पुलिस का कहना है कि वह बचने के लिए इस तरह की बातें कह रहा है। अशोक के इस बयान के बात सवाल उठने लगा है कि क्या सही में उसने ही प्रद्युम्न की हत्या की है।

आरोपी के वकील का दावा, बेगुनाह है अशोक

इधर प्रद्युम्न हत्याकांड के आरोपी कंडक्टर अशोक के वकील ने भी दावा किया है कि अशोक ने प्रद्युम्न की हत्या नहीं कि है उसे फंसाया जा रहा है। अशोक के वकील का कहना है कि उसे नशे का इंजेक्शन लगाकर बयान दिलवाया गया है। आपको बता दें कि इससे पहले भी अशोक की भूमिका को लेकर लोग और प्रद्युम्न के घर वाले सवाल उठते रहे हैं। अशोक ने चाकू के संदर्भ में अपने बयान को बदलते हुआ कहा है कि चाकू उसने आगरा से खरीदा था। इससे पहले उसने कहा था कि चाकू उसकी बस के फस्ट एड बॉक्स का हिस्सा है। यानि उसने एक बार फिर से पुलिस के लिए मुसीबत खड़ी कर दी है। अशोक ने यहां तक कहा है कि आगरा जाकर चाकू खरीदने का प्रमाण दे सकता है।

प्रद्युम्न मर्डर केस की CCTV फुटेज में क्या है?

मीडिया के हाथ स्कूल के टॉयलेट का सीसीटीवी फुटेज लगा है जिसमें प्रद्युम्न खून से लथपथ टॉयलेट के बाहर फर्श पर रेंगते हुए दिख रहा है। सीसीटीवी फुटेज के मुताबिक प्रद्युम्न सुबह 7.55 पर स्कूल पहुंचता है। थोड़ी देर बाद टॉयलेट के पास लगे सीसीटीवी में दिखाता है कि कंडक्टर अशोक पहले टॉयलेट जाता है फिर थोड़ी ही देर में प्रद्युम्न भी टॉयलेट करने पहुंच जाता है। इन दोनों में से किसी को भी 7.55 और 8.10 यानि पूरे 15 मिनट तक बाथरूम से बाहर आते हुए देखा गया। न ही 7.55 से 8.10 के बीच कोई तीसरा शख्स टॉयलेट में जाता हुआ दिखा। 8.10 के बाद अशोक टॉयलेट से बाहर निकलते हुए दिखाई दे रहा है। इसके कुछ ही देर बाद प्रद्युम्न एक हाथ से अपने गले को पकड़ कर रेंगते हुए टॉयलेट से बाहर आता दिखाई पड़ता है।