Home खास ख़बर देश में साक्षरता के मामले में उत्तराखण्ड टॉप-3 में शामिल।

देश में साक्षरता के मामले में उत्तराखण्ड टॉप-3 में शामिल।

296
SHARE

राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय ने साक्षरता के आंकडे जारी किए हैं। इन आंकड़ों में उत्तराखण्ड तीसरे स्थान पर काबिज है तो वहीं पहले नंबर पर केरल का दबदबा बरकरार है। जारी रिपोर्ट के मुताबिक 96.2 प्रतिशत साक्षरता दर के साथ केरल इस बार भी सूची में पहले स्थान पर, दिल्ली 88.7 प्रतिशत के साथ दूसरे स्थान पर, उत्तराखण्ड तीसरे स्थान पर है। इस सूची में 66.4 प्रतिशत के साथ आन्द्र प्रदेश आखिरी नंबर पर है। वहीं हिमाचल प्रदेश 88.6 प्रतिशत के साथ चौथे तो असम 85.9 प्रतिशत के साथ सबसे साक्षर प्रदेशों में पांचवे स्थान पर है।

कम साक्षरता वाले प्रदेशों की इस सूची में आन्ध्र प्रदेश के बाद 69.7 प्रतिशत के साथ राजस्थान दूसरा सबसे कम साक्षर प्रदेश है। इसके बाद 70.9 प्रतिशत पर बिहार, 72.8 प्रतिशत पर तेलंगाना, 73.3 पर यूपी औऱ 73.7 प्रतिशत पर मध्य प्रदेश सबसे कम साक्षर प्रदेश हैं।

आंकड़ों के मुताबिक पूरे देश की साक्षरता दर 77.7 प्रतिशत है। ग्रामीण क्षेत्रों में 73.5 प्रतिशत लोग साक्षर है, शहरों की साक्षरता 87.7 प्रतिशत है। देश में पुरुषों की साक्षरता दर 84.7 प्रतिशत है, जबकि 70.3 प्रतिशत महिलाएं साक्षर हैं। सभी राज्यों में पुरूष महिलाओं से आगे हैं। शीर्ष पायदान पर काबिज केरल में 97.4 प्रतिशत पुरूष तो 95.2 प्रतिशत महिलाएं साक्षर हैं। इसी तरह दिल्ली में भी 93.7 प्रतिशत पुरूष साक्षर हैं। यहां महिलाओं की साक्षरता दर 82.4 प्रतिशत है। सर्वे में देशभऱ के 8097 गांवो से 64519 घरों और शहरों में 6188 ब्लॉक के 49238 घरों के 7 वर्ष व उससे अधिक आयु के लोगों को शामिल किया गया।

रिपोर्ट के मुुताबिक ग्रामीण क्षेत्रों में सिर्फ 4 प्रतिशत लोगों के पास कंप्यूटर है, जबकि शहरों में 23 प्रतिशत घरों में कंप्यूटर मौजूद है। लोगों की बात करें तो 15-29 वर्ष आयु वाले 24 प्रतिशत ग्रामीण ही कंप्यूटर साक्षर हैं। वहीं शहरों में 56 प्रतिशत लोग कंप्यूटर चलाना जानते हैं।