Home उत्तराखंड प्रदेश में 17 नवंबर से राजकीय आवासीय विद्यालय भी खुल सकेंगे।

प्रदेश में 17 नवंबर से राजकीय आवासीय विद्यालय भी खुल सकेंगे।

388
SHARE

उत्तराखंड शिक्षा विभाग ने प्रदेश के राजकीय आवासीय विद्यालयों को खोलने हेत एसओपी जारी कर दी है। एसओपी के अनुसार कंटेनमेंट जोन के बाहर प्रदेश में शिक्षा विभाग द्वारा संचालित समस्त राजकीय आवासीय विद्यालयों में कक्षा 10 एवं कक्षा 12 की कक्षाओं में दिनांक 17 नवंबर 2020 से पठन-पाठन भौतिक रूप से पुनः प्रारंभ किया जा सकेगा। अतः प्रदेश में अब 17 नवंबर से राजीव गांधी नवोदय विद्यालय एवं कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालयों में कक्षा 10 व 12 वीं के विद्यार्थियों के लिए कक्षाएं शुरू हो सकेंगी।

सरकारी आवासीय विद्यालयों को खोलने से पहले विद्यालय के समस्त स्टाफ एवं छात्र-छात्राओं की अधिकतम 72 घंटे से पूर्व कोविड-19 की जांच कराते हुए कोविड-19 की निगेटिव जांच रिपोर्ट संबंधित विद्यालय के प्रधानाचार्य/वार्डन के समक्ष अनिवार्यत: प्रस्तुत करना होगा। संबंधित प्रधानाचार्य / वार्डन जांच रिपोर्ट से संबंधित खण्ड शिक्षा अधिकारी/मुख्य शिक्षा अधिकारी को अवगत कराएंगे।

वहीं यदि किसी राजकीय आवासीय विद्यालय का कोई छात्र छात्रा अथवा उनके अभिभावक वर्तमान परिस्थितियों में विद्यालय छात्रावास में भेजने को सहमत नहीं होते हैं तो ऐसे छात्र छात्राओं को पूर्व की भांति ऑनलाइन अध्यापन की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी।

शिक्षा विभाग द्वारा संचालित राजकीय आवासीय विद्यालय को पुनः संचालित किए जाने की संपूर्ण व्यवस्था का अनुश्रवण एवं अनुपालन सुनिश्चित किया जाएगा। राजीव गांधी नवोदय विद्यालयों के सतत अनुश्रवण हेतु निदेशक माध्यमिक शिक्षा द्वारा किसी वरिष्ठ अधिकारी को राज्य स्तरीय नोडल अधिकारी के रूप में नामित किया जाएगा तथा कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालयों की संपूर्ण व्यवस्था के सतत अनुसरण एवं अनुपालन सुनिश्चित किए जाने हेतु अपर राज्य परियोजना निदेशक समग्र शिक्षा द्वारा किसी वरिष्ठ अधिकारी को नोडल अधिकारी नामित किया जाएगा 29 राज्य स्तरीय नोडल अधिकारियों द्वारा नियमित रूप से महानिदेशक विद्यालय शिक्षा उत्तराखंड को कार्यवाही की प्रगति आख्या उपलब्ध कराई जाएगी।

जनपद में जिलाधिकारी द्वारा राजकीय आवासीय विद्यालयों के सतत अनुश्रवण एवं मानक संचालन प्रक्रिया का अनुपालन कराए जाने हेतु एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी को जनपद स्तरीय नोडल अधिकारी तथा उस जनपद के मुख्य शिक्षा अधिकारी को पदेन सहायक नोडल अधिकारी के रूप में नामित करते हुए व्यापक प्रचार-प्रसार भी किया जाएगा।

प्रत्येक राजकीय आवासीय विद्यालय का प्रधानाचार्य वार्डन अपने विद्यालय हेतु विद्यालय स्तरीय पदेन नोडल अधिकारी होगा। राजकीय आवासीय विद्यालयों की मानक संचालन प्रक्रिया निर्गत होने के 3 दिन के भीतर संबंधित प्रधानाचार्य वार्डन अपने विद्यालय की मानक संचालन प्रक्रिया की रूपरेखा तैयार कर अपने जनपद के मुख्य शिक्षा अधिकारी को प्रेषित करेगा।