Home उत्तराखंड शंख, घंटियों, तालियों व थालियों की ध्वनि से गूंज उठा नैनीताल।

शंख, घंटियों, तालियों व थालियों की ध्वनि से गूंज उठा नैनीताल।

220
SHARE

आज पूरे देश ने कोरोना वायरस से लड़ने के लिए जनता कर्फ़्यू का खुल कर समर्थन किया, पूरे उत्तराखंड ने भी प्रधानमंत्री की अपील को अपना पूरा समर्थन दिया। शाम के पांच बजते ही यहां का नजारा बेहद खास था, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने परिवार के साथ थाली बजाकर कर्मचारियों का आभार प्रकट किया। तो वहीं नैनीताल में हर घर की खिड़की बालकनी से शंख, घंटियों, तालियों, थालियों की आवाज़ से पूरा वातावरण गूंज उठा। सनातन धर्म-संस्कृति में करतल ध्वनि, घंटा ध्वनि, शंख की ध्वनि को काफी प्रभावशाली माना जाता है। शुभ मौकों पर इसका प्रयोग किया जाता है। जबकि थाली बजाना उत्साह का प्रतीक होता है। घर से नकारात्मकता दूर होती है।

आज शाम ठीक 5 बजते ही नैनीताल में लोगों के अंदर इतना उत्साह था कि मानो वो आज ही कोरोना वायरस को जड़ से ही खत्म करने का संकल्प ले रहे हों।

आज शाम 5 बजे जब लोग अपने अपने घरों से उन सभी लोगो का आभार व्यक्त कर रहे थे जो देश की सेवा में दिन रात लगे हैं, चाहे डॉक्टर हो या पूरा स्वास्थ्य विभाग, चाहे पुलिसकर्मी हो या मीडिया कर्मी, या फिर आर्मी के जवान हो आज इन सब ने बिना रुके अपना कर्तव्य निभाया।