Home उत्तराखंड श्रीदेवसुमन विश्वविद्यालय से संबद्ध प्रदेश के निजी महाविद्यालय 1-1 गांव गोद लेंगे।

श्रीदेवसुमन विश्वविद्यालय से संबद्ध प्रदेश के निजी महाविद्यालय 1-1 गांव गोद लेंगे।

438
SHARE

प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री डॉक्टर धन सिंह रावत ने दून विश्वविद्यालय में श्रीदेवसुमन सुमन विश्वविद्यालय से संबद्ध प्रदेश के निजी कॉलेज संचालकों की बैठक ली, बैठक में श्रीदेवसुमन विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. पी. पी. ध्यानी व दून विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. सुरेखा डंगवाल तथा सलाहकार रुसा प्रो. एमएसएम रावत, प्रो के. डी. पुरोहित, कुलसचिव दून विश्वविद्यालय मंगल सिंह मंद्रवाल, सहायक परीक्षा नियंत्रक श्रीदेवसुमन विवि डॉ हेमन्त बिष्ट, सम्बद्धता प्रभारी सुनील नौटियाल, प्रो एच.सी. पुरोहित सहित निजी शिक्षण संस्थानों के संचालक/निदेशक उपस्थित रहे। बैठक में निजी कॉलेज संचालकों ने मंत्री के सामने अपनी समस्याएं रखी तो वहीं मंत्री ने भी कॉलेज संचालकों को जल्द सभी समस्याओं के समाधान का आश्वासन दिया।

वहीं उच्च शिक्षा मंत्री ने सभी निजी कॉलेजों को दो टॉस्क दिए हैं, प्रत्येक निजी कॉलेज को एक गांव गोद लेना होगा। वहीं 2022 तक सभी कॉलेजों को NAAC कराना होगा। वहीं सभी कॉलेजों से गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा देनी होगी। उच्च शिक्षा मंत्री ने कहा कि निजी कॉलेज गोद लिए गांव में शिक्षा, स्वच्छता के क्षेत्र में काम करेंगे। जिससे इन गांवों में बेहतर सुविधाएं उपलब्ध हो सकें।

वहीं श्रीदेवसुमन विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. पी. पी. ध्यानी ने कहा कि आज देशभर में निजी कॉलेज उच्च शिक्षा के क्षेत्र में बेहतरीन कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अगर आज हम उच्च शिक्षा की बात करते हैं तो इसमें निजी विश्वविद्यालयों व महाविद्यालयों को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। वहीं उन्होंने विश्वविद्यालयों व महाविद्यालयों द्वारा गांव गोद लिए जाने के फैसले का स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि श्रीदेवसुमन विश्वविद्यालय से प्रदेश में 168 महाविद्यालय संबद्ध हैं, जिनमें से 54 महाविद्यालय राजकीय हैं, जिनका 80 % पहाड़ी क्षेत्रों में है। वहीं 114 निजी महाविद्यालय हैं जिनमें 94 प्रतिशत मैदानी क्षेत्रों में हैं। देहरादून क्षेत्र में लगभग 44 निजी महाविद्यालय विश्वविद्यालय से संबद्ध हैं, उच्च शिक्षा मंत्री ने इन संस्थानों के संचालकों को बैठक के लिए आमंत्रित किया जिससे कि उनकी समस्याओं को सुना जाए और शासन, राजभवन तथा विश्वविद्यालय स्तर पर उनकी निराकरण किया जा सके।

कुलपति डॉ. पी. पी. ध्यानी ने कहा कि पूरे भारत में जितने भी महाविद्यालय हैं उनमें लगभग 59 प्रतिशत छात्र-छात्राएं अध्ययनरत हैं। उन्होंने बताया  कि आज उच्च शिक्षा मंत्री ने देहरादून क्षेत्र के निजी महाविद्यालय संचालकों की समस्याओं को सुना और जल्द निराकरण का आश्वासन दिया साथ ही कॉलेजों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देने के लिए कहा है, वहीं हर महाविद्यालय को 1 गांव गोद लेने को कहा है।