Home अपना उत्तराखंड पहाड़ में भी बेटियों को बर्बाद कर रहा है नशा…

पहाड़ में भी बेटियों को बर्बाद कर रहा है नशा…

782
SHARE

एक वक्त था जब नशे के लिए केवल पंजाब बदनाम था, पर अब ये कलंक उत्तराखंड के माथे पर भी लग गया है। पहाड़ के युवा नशे की गिरफ्त में हैं। हालात कितने खराब हैं इसका अंदाजा आप खुद ही लगा सकते हैं। हर दिन अखबार स्मैक तस्करों की गिरफ्तारी की खबरों से भरे पड़े रहते हैं। ये हमारे लिए खतरे की घंटी है। यहां के युवकों के साथ ही युवतियां भी नशे के आगोश में है। स्मैक के सेवन से लेकर इसकी तस्करी तक में महिलाएं-युवतियां लिप्त मिल रही हैं। सीमांत जिलों में तो हालात और खराब हैं। ऐसा ही मामला सामने आया है उत्तराखंड के अल्मोड़ा में, जहां एंटी ड्रग टास्क फोर्स ने एक युवक और युवती को स्मैक के साथ चीनाखान धारानौल से गिरफ्तार किया है। दोनों के पास से 10.59 ग्राम स्मैक मिली है। पुलिस जब दोनों आरोपियों को मजिस्ट्रेट के सामने ले गई तो वहां युवती के बारे में जो पता चला उसे सुन पुलिस भी हैरान रह गई। युवती ने बताया कि उसे नशे की लत है। वो पहले भी स्मैक के साथ पकड़ी जा चुकी है, पर इसका उस पर कोई असर नहीं हुआ। नशा उसके खून में दौड़ रहा है। वहीं परिजनों ने बताया कि नशे की लत छुड़ाने के लिए उसे नशा उन्मूलन केंद्र भी भेजा गया था, पर वहां से लौटने के बाद वो फिर नशा करने लगी। युवती अल्मोड़ा की ही रहने वाली है, उसके पास से पुलिस को 3.31 ग्राम स्मैक मिली है। परिजनों ने कहा कि युवती पूरी तरह नशे की गिरफ्त में है, मंगलवार रात उसके पास किसी का फोन आया था, जिसके बाद वो घर से गायब हो गई थी। बाद में उसकी गिरफ्तारी की खबर मिली।

यह भी पढें – औली में 200 करोड़ की शाही शादी…क्या कह रहे हैं स्थानीय लोग…देखिए ये वीडियो
वहीं जिस दूसरे आरोपी को पुलिस ने पकड़ा है, वो लंबे वक्त से शहर में स्मैक और दूसरे मादक पदार्थों की सप्लाई कर रहा है। आरोपी का नाम अमीर खान बताया जा रहा है, वो अल्मोड़ा में ही रहकर यहां के युवाओं को नशे की लत में धकेल रहा था। बता दें कि क्षेत्र में एसएसपी प्रहलाद सिंह मीणा के नेतृत्व में ऑपरेशन नया सवेरा चलाया जा रहा है, इसका उद्देश्य युवाओं को नशे की गिरफ्त से आजाद कराना है। इसी कड़ी में मंगलवार को पुलिस ने स्मैक बेचने वाले युवक और एक युवती को पकड़ा, जिनसे कुल 10.59 ग्राम स्मैक मिली। बरामद स्मैक की कीमत करीब 1 लाख रुपये है। दोनों आरोपियों के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है। युवती को जमानत मिल गई है, जबकि मुख्य आरोपी को पुलिस ने जेल भेज दिया है। ऑपरेशन नया सवेरा के तहत अल्मोड़ा पुलिस इस साल अब तक 19 मामले दर्ज कर 35 आरोपियों को पकड़ चुकी है। सोचिए अल्मोड़ा में ये हाल है तो पूरे उत्तराखंड में क्या हाल होगा। नशे के सौदागरों के खिलाफ जल्द ही बड़ा कदम नहीं उठाया गया तो परिणाम घातक होंगे।