Home अपना उत्तराखंड इग्नू के 100 से ज्यादा कोर्स लटके, केवल 42 पाठ्यक्रमों को ही...

इग्नू के 100 से ज्यादा कोर्स लटके, केवल 42 पाठ्यक्रमों को ही मिली मान्यता

898
SHARE

यूजीसी की डिस्टेंस एजुकेशन काउंसिल(डीईसी) से इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय(इग्नू) को भी झटका लगा है। डीईसी ने इग्नू के 100 से ज्यादा पाठ्यक्रमों पर बंदी की तलवार लटका दी है। डीईसी के नोटिफिकेशन में केवल 42 कोर्स को ही मान्यता मिली है। हालांकि राज्यों के मुक्त विश्वविद्यालयों के मुकाबले यह संख्या काफी अधिक है।

डीईसी नोटिफिकेशन के मुताबिक इग्नू में इस सत्र 2018-19 के लिए केवल 42 पाठ्यक्रमों में ही नए दाखिले किए जा सकते हैं। जबकि इग्नू में इससे पहले 150 से ज्यादा कोर्सेज चल रहे थे। 100 से ज्यादा पाठ्यक्रमों पर बंदी की तलवार लटक गई है।

इग्नू के सहायक क्षेत्रीय अधिकारी जगदंबा प्रसाद के मुताबिक अभी इस संबंध में पूरी सूचना नहीं आई है लेकिन प्राथमिक तौर पर जो बात हुई है उससे साफ है कि जल्द ही हमारे बाकी पाठ्यक्रमों को भी मान्यता मिल जाएगी। इनकी प्रक्रिया गतिमान है। हालांकि, उत्तराखंड मुक्त विवि सहित देश के अन्य राज्यों के मुक्त विवि को देखें तो इग्नू के पाठ्यक्रम सबसे ज्यादा 42 बचे हुए हैं। मुक्त विवि में 75 पाठ्यक्रमों की मान्यता चली गई है, केवल पांच को ही मान्यता मिली है।

एक ओर जहां डीईसी ने इग्नू में बीएड की मान्यता नहीं दी है तो दूसरी ओर उत्तराखंड ओपन यूनिवर्सिटी में बीएड बच गया है। डीईसी की लिस्ट में बीएड का नाम बाकी है। लिहाजा, विवि बीएड में प्रवेश की प्रक्रिया चला रहा है। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय से पढ़ाई कर रहे इन छात्र-छात्राओं के लिए अच्छी खबर है। इन छात्रों को अब यह सुविधा फ्री में दी जाएगी।

जी हां, इग्नू आरक्षित वर्ग के छात्र-छात्राओं को यह सुविधा दे रहा है। इस वर्ष से आरक्षित वर्ग के छात्र-छात्राओं को स्नातक के साथ ही विभिन्न सर्टिफिकेट और पीजी डिप्लोमा कोर्स में प्रवेश के लिए किसी प्रकार शुल्क नहीं देना पड़ेगा।