Home उत्तराखंड नैनीताल डीएम सविन बंसल इन बेटियों के लिए बने मसीहा, पढाई के...

नैनीताल डीएम सविन बंसल इन बेटियों के लिए बने मसीहा, पढाई के लिए सत्तर हज़ार से अधिक आर्थिक मदद।

251
SHARE

नैनीताल जिलाधिकारी सविन बंसल जिले में ऐसी कई योजनाएं संचालित कर रहे हैं, जिसका साधा लाभ आम आदमी को मिल रहा है। उनकी ऐसी ही एक कोशिश से गरीब बेटियों का अच्छी शिक्षा का सपना साकार हो रहा है। जिलाधिकारी सविन बंसल ने डी.फार्मा की छात्रा कु.अर्चना को आगे की पढ़ाई जारी रखने के लिए 34000 रूपये तथा बी.एड की छात्रा कु.कान्ता को चालीस हजार 40000 रूपये की आर्थिक मदद प्रदान की है।जिलाधिकारी बंसल का मानना है कि उज्ज्वल भविष्य के लिए बेटियों का शिक्षित एवं सशक्तिकरण होना बहुत आवश्यक है।

बता दें कि सितम्बर माह के प्रथम सप्ताह में जिलाधिकारी को व्हाट्सअप पर भौनियाधार निवासी कु.अर्चना ने अप्रोच किया कि वह डी.फार्मा की छात्रा है। घर की आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण पढ़ाई में बाधा आ रही है। कोरोना काल में पिता की आर्थिक खराब होने के कारण शुल्क जमा करने में असमर्थता व्यक्त करते हुए आगे की पढ़ाई जारी रखने के लिए आर्थिक मदद की गुहार लगायी। जिसका संज्ञान लेते हुए जिलाधिकारी सविन बंसल ने उप जिलाधिकारी नैनीताल के माध्यम से वास्तविक स्थिति की जांच करायी। एसडीएम द्वारा जाॅच आख्या में बताया गया कि कु.अर्चना पूर्ण रूप से अपने पिता नन्दलाल पर आश्रित है, जिनकी मासिक आय एक हजार पाॅच सौ रूपये आंकी गयी है।

कु.अर्चना वर्तमान में कुमाऊॅ आयुर्वेदिक मेडिकल काॅलेज एवं चिकित्सालय हल्द्वानी में डी.फार्मा प्रथम वर्ष में अध्ययनरत है। कु.अर्चना द्वारा काॅलेज की कुल फीस उनसठ हजार (59000) रूपये के सापेक्ष पच्चीस हजार जमा कर दिये गए हैं। तथा 34 हजार रूपये की धनराशि जमा होनी शेष है। जिस पर जिलाधिकारी बंसल ने सभी औपचारिकताऐं पूर्ण कराते हुए बालिका की पढ़ाई जारी रखने के लिए  34 रूपये जमा करा कर बालिका की आगे की पढ़ाई जारी रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

16 सितम्बर को जवाहर खत्ता दमुवाढुंगा हल्द्वानी निवासी कु.कान्ता आर्या ने डीएम कैम्प कार्यालय में उपस्थित होकर जिलाधिकारी सविन बंसल को व्यथित होकर एवं दुःखी मन से बताया कि वह बी.एड की छात्रा है। छात्रा ने बताया कि वह अनाथ/बेसहारा है। आय का कोई स्त्रोत नहीं है। छात्रवृत्ति न मिल पाने व आर्थिक तंगी के कारण बी.एड की फीस जमा करने में असमर्थता जताते हुए आगे की पढ़ाई जारी रखने हेतु मदद की गुहार लगायी। जिस पर जिलाधिकारी ने जिला प्रोबेशन अधिकारी से जाॅच कराते हुए बालिका की चालीस हजार रूपये की धनराशि जमा करायी है। दोनो बालिकाओं कु.अर्चना तथा कु.कान्ता आर्या ने उनकी शिक्षा को आगे बढ़ाने में मदद करने पर जिलाधिकारी सविन बंसल का आभार व्यक्त किया।

सविन बंसल ने कहा कि शिक्षा किसी भी उन्नत राष्ट्र की आधारशिला है। शिक्षा न सिर्फ व्यक्ति के सर्वांर्गीण विकास का माध्यम है, वरन यह एक विचारशील समुन्नत सांस्कृतिक सभ्य राष्ट्र का निर्माण भी करती है। भारतीय समाज को उसके आदर्शों मूल्य आधारित सामाजिक परम्पराओं, संवेदनशीलता, सहिष्णुता का विकास करने मे सक्षम प्राचीन शिक्षा के कारण ही विश्व गुरू कहे जाने का गौरव प्राप्त रहा है। इस गौरवशाली इतिहास में बेटियों की शिक्षा का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। क्योंकि बच्चों की प्राथमिक पाठशाला उसका परिवार होती है, और परिवार की आधारशिला बेटी के शिक्षित होने से ही मजबूत होती है।