Home खास ख़बर लॉकडाउन – 4 पूरी तरह से नए रंग-रूप में होगा- प्रधानमंत्री।

लॉकडाउन – 4 पूरी तरह से नए रंग-रूप में होगा- प्रधानमंत्री।

634
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी देश को संबोधित किया, प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि भारत ने आपदा को अवसर में बदला है। आज आत्मनिर्भर शब्द का अर्थ बदल गया है, विश्व कल्याण के मार्ग पर भारत अटल चल रहा है। एक वायरस ने विश्व को तहस-नहस कर दिया, लेकिन भारत वासियों ने अपने संकल्प को दिखाते हुए आगे बढ़ने का काम किया है। भारत की संस्कृति भारत के संस्कार आत्मनिर्भरता की बात करते हैं जिसकी आत्मा वसुदेव कुटुंबकम है विश्व एक परिवार है।

प्रधानमंत्री ने करीब 20 लाख करोड रुपए के आर्थिक पैकेज की घोषणा की, उन्होंने कहा ये पैकेज भारत की जीडीपी का करीब-करीब दस प्रतिशत है। उसके अनुसार इन सबके जरिए देश के विभिन्न वर्गों को आर्थिक व्यवस्था की कडियों को 20 लाख करोड़ रुपये का सपोर्ट मिलेगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि ये आर्थिक पैकेज हमारे कुटीर उद्योग, गृह उद्योग, हमारे लघु मंझोले उद्योग, हमारे एमएसएमई के लिए हैं, जो करोड़ों लोगों की आजीविका का साधन है, जो आत्मनिर्भर भारत के हमारे संकल्प का मजबूत आधार है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि लॉकडाउन-4 पूरी तरह से नए रंग-रूप में होगा, उन्होंने कहा कि 18 मई से पहले इसकी जानकारी दे दी जाएगी। उन्होंने कहा कि राज्य के मुख्यमंत्रियों से सलाह-मशविरा के बाद इस पर अंतिम फैसला लिया जाएगा।

प्रधानमंत्री ने कहा थकना, हारना, टूटना, बिखरना मानव को मंजूर नहीं है। ये क्राइसिस अभूतपूर्व है, लेकिन थकना, हारना, टूटना, बिखरना मानव को मंजूर नहीं है। सतर्क रहते हुए ऐसी जंग के सभी नियमों का पालन करते हुए हमें बचना भी है और आगे बढ़ना भी है। आज जब दुनिया संकट में है, तब हमें अपना संकल्प और मजबूत करना होगा। साथियों हम पिछली शताब्दी से ही लगातार सुनते आए हैं की 21वीं सदी हिंदुस्तान की है, हमें कोरोना से पहले की दुनिया वैश्विक व्यवस्थाओं को विस्तार से देखने समझने का मौका मिला है।

कोरोना संकट के बाद भी दुनिया में जो स्थितियां बन रही हैं, उसे भी हम निरंतर देख रहे हैं। जब इन दोनों कालखंडों को भारत के नजरिए से देखते हैं तो लगता है कि 21वीं सदी भारत की हो यह हमारा सपना ही नहीं यह हम सबकी जिम्मेदारी भी है।