Home उत्तराखंड केन्द्र की गाइडलाइन के बाद क्या उत्तराखंड में भी 21 सितंबर से...

केन्द्र की गाइडलाइन के बाद क्या उत्तराखंड में भी 21 सितंबर से खुल सकेंगे स्कूल ?

886
SHARE

केन्द्र सरकार ने भले ही 21 सितंबर से 9 से 12 वीं तक की कक्षाओं के छात्र-छात्राओं के लिए शशर्त स्कूल खोलने की इजाजत दी है, लेकिन बड़ा सवाल ये है कि क्या अभिभावक अपने बच्चों को स्कूल भेजेंगे। उत्तराखंड की बात की जाए तो केन्द्र की गाइडलाइन आने के बाद भी राज्य में अभी स्कूल खोलने को लेकर कोई तैयारी नहीं दिखाई दे रही है। राज्य सरकार की तरफ से अभी इसके स्पष्ट दिशा-निर्देश भी आने बाकी हैं।

केंद्र सरकार ने जारी किए हैं ये दिशा-निर्देश – 21 सितंबर से 9 से 12 वीं तक के छात्रों के लिए स्कूल खुलेंगे, लेकिन इन नियमों का करना होगा पालन।

स्कूल खोले जाने की तैयारी को लेकर मुख्य शिक्षा अधिकारी आशा रानी पैन्यूली ने कहा है कि अभी सरकार की ओर से स्कूल खोलने को लेकर कोई स्पष्ट दिशा- निर्देश नहीं मिला है, ऐसे में तैयारियों की कोई बात ही नहीं है। दिशा- निर्देश मिलने के बाद उसी के अनुसार स्कूल खोलने की तैयारी की जाएगी। वहीं अभिभावक ऐसी स्थिति में अपने बच्चों को स्कूल भेजने को तैयार नहीं हैं, इसके लिए उन्होंने मुख्यमंत्री व केन्द्रीय शिक्षा मंत्री को पत्र लिखा है कि स्कूल न खोले जाएं।

केन्द्र की गाइडलाइन के बाद राज्य सरकार स्कूलों को खोलने की अनुमति देती भी है तो स्कूलों में कोई छात्र पहुंचे ऐसी संभावना कम ही नजर आ रही है, क्योंकि प्रदेश में जिस तरह कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है, ऐसे हालात में कोई भी अभिभावक अपने बच्चों को स्कूल भेजना नहीं चाहेगा। राज्य सरकार के लिए भी स्कूलों को खोलना आसान नहीं होगा, क्योंकि अब कोरोना संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है, पिछले दो दिन से एक दिन में 1 हजार से अधिक ने कोरोना संक्रमित मरीज सामने आए हैं।

केन्द्र सरकार ने इन नियमों के साथ दी है 9 से 12 वीं तक के स्कूल खोलने की छूट-

  1. छात्रों को फेस मास्क पहनना अनिवार्य होगा।
  2. हर छात्र को एक दूसरे से कम से कम छह फुट की दूरी बनाकर बैठना होगा, और ये लिफ्ट, पार्किंग, कॉरिडोर सभी जगहों पर लागू होगा।
  3. सभी छात्रों को थोड़ी-थोड़ी देर पर हाथ धोना होगा और सैनिटाइजर  का इस्तेमाल करना होगा।
  4. खांसने और छींकने के वक्त मुंह और नाक को ढककर रखना होगा।
  5. सार्वजिनक जगह पर थूकना मना होगा।
  6. किसी छात्र को तबियत में कुछ गड़बड़ी का अहसास होगा, उन्हें फौरन स्कूल टीचर या प्रशासन को इस बारे में जानकारी देनी होगी।
  7. छात्रों को जहां तक मुमकिन है आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड़ करने की सलाह दी गई है।
  8. कंटेनमेंट जोन के अंदर के स्कूलों को इजाजत नहीं होगी और यहां रहने वाले छात्र या टीचर या दूसरे किसी स्टाफ को गैर कंटेनमेंट जोन में मौजूद स्कूल में आने की इजाजत नहीं होगी।
  9. स्कूलों को खोलने से पहले पूरी तरह से सैनिटाइज किया जाएगा और उन जगहों पर बार-बार सफाई की जाएगी जहां टीचर और छात्र बैठकर बातचीत करेंगे।
  10. अगर किसी स्कूल को पहले क्वारंटीन सेंटर के तौर पर इस्तेमाल किया गया हो तो उनको खास तौर पर सैनिटाइज किया जाएगा।
  11. स्कूलों में फिलहाल एसेम्बली नहीं होगी, स्वीमिंग पूल भी बंद रहेंगे और खेलकूद से जुड़ी गतिविधियों पर भी पाबंदी लगी रहेगी।
  12. स्कूल के दरवाजों के बाहर थर्मल स्क्रीनिंग होगी ताकि छात्रों और शिक्षकों के तापमान की जांच हो सके।
  13. बिना किसी लक्षण वाले व्यक्ति को ही अंदर जाने दिया जाएगा औऱ अगर किसी में जरा भी कोरोना का लक्षण दिखा तो उन्हें फौरन पास के हेल्थ सेंटर भेजा जाएगा।
  14. भीड़ से बचने के लिए अलग-अलग समय पर छात्रों को स्कूल बुलाया जा सकेगा।
  15. छात्रों को आपस में नोटबुक, पैन, पेंसिल, रबर, वाटरलबॉटल एक दूसरे को लेने-देने की इजाजत नहीं होगी।
  16. जिंन स्कूलों में बसों की सुविधा है उनमें भी सोशल डिस्टेंसिंग और साफ-सफाई का खास ध्यान रखा जाएगा।