Home उत्तराखंड उत्तराखंड भाजपा में सब कुछ ठीक नही? अपनी सरकार से नाराज हैं...

उत्तराखंड भाजपा में सब कुछ ठीक नही? अपनी सरकार से नाराज हैं विधायक !

297
SHARE

उत्तराखण्ड में 2017 में भाजपा प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता में आई और त्रिवेन्द्र सिंह रावत प्रदेश के मुखिया बने। उसके बाद कुछ समय तक मंत्री पद औऱ दायित्वों को लेकर भी चर्चाएं तेज रही और कई बार पार्टी के नेताओं में नाराजगी वाली बातें भी राजनीतिक गलियारों में गूंजती रही। लेकिन प्रचंड बहुमत के आगे ये बाते कभी खुलकर सामने नहीं आई। हालांकि बीच-बीच में बीजेपी के कुछ विधायकों के सरकार की आलोचना से संबंधित बयान भी सामने आए। लेकिन बीजेपी संगठन ने ऐसे बयानों पर विधायकों को नोटिस जारी कर उन्हें चुप भी कराया।

लेकिन इन दिनों एक बार फिर बीजेपी के कुछ विधायकों की सरकार से नाराजगी की खबरें सामने आ रही हैं। विधायकों की नाराजगी यह है कि नौकरशाह उनकी बात नहीं मानते औऱ सरकार से इनकी शिकायत करने के बाद भी सरकार इनके ऊपर कोई कार्रवाई नहीं करती है। अब बीजेपी विधायक यहां सुनवाई न होने पर अपनी शिकायत लेकर दिल्ली दरबार तक पहुंच जा रहे हैं। जहां एक विधायक ने भ्रष्टाचार को लेकर पत्र के माध्यम से भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष से शिकायत की है, तो वहीं एक विधायक ने राष्ट्रीय अध्यक्ष से मुलाकात कर शिकायत की है।

अपने ही विधायक ने सीएम के विभाग पर लगाए हैं भ्रष्टाचार के आरोप- 

लोहाघाट से बीजेपी विधायक पूरन सिंह फर्त्याल ने अपनी सरकार के जीरो टॉलरेंस की नीति पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने सरकार पर भ्रष्टाचार के खिलाफ लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है। विधायक फर्त्याल ने टनकपुर-जौलजीबी सड़क निर्माण में भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है, और सरकार पर भ्रष्टाचारियों पर कार्रवाई न करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि मैं इसकी शिकायत मुख्यमंत्री को कर चुका हूं, लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। उन्होंने अब इसकी शिकायत सीधे भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष को पत्र लिखकर की है।

डीडीहाट विधायक विशन सिंह चुफाल बीजेपी राष्ट्रीय अध्य़क्ष से कर चुके हैं मुलाकात-

वहीं डीडीहाट विधायक विशन सिंह चुफाल प्रदेश की नौकरशाही से नाराज हैं उन्होंने आरोप लगाया है कि अधिकारी विधायकों की बात नहीं सुनते, जिसके कारण विकास कार्यो पर भी असर पड़ रहा है। उनका मानना है कि इसका असर आने वाले चुनावों में पार्टी के प्रदर्शन पर भी पड़ सकता है। चुफाल अपनी शिकायत पार्टी फोरम से लेकर मुख्यमंत्री तक कर चुके हैं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं होने के बाद उन्होंने राष्ट्रीय अध्य़क्ष जेपी नड्डा से मुलाकात कर उन्हें अपनी समस्याओं से अवगत कराया।

उमेश शर्मा काऊ ने भी लिखा राष्ट्रीय अध्य़क्ष को पत्र-

देहरादून के रायपुर विधानसभा क्षेत्र से भाजपा विधायक उमेश शर्मा काऊ ने भी जेपी नड्डा को पत्र लिखा है। उन्होने अपने क्षेत्र में विकास कार्य नहीं हो पाने की शिकायत की है। उन्होंने अपने पत्र में लिखा है कि अपने क्षेत्र की जनता और पार्टी के लिए उन्होेंने लगन से काम किया लेकिन उनकी नहीं सुनी जा रही है। उन्होंने कहा है कि अपने क्षेत्र की समस्याओं को लेकर वह सरकार और शहरी विकास मंत्री के पास कई बार जा चुके हैं लकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। नगर-निगम विस्तार के 100 वार्ड़ो में से 24 वार्ड उनकी विधानसभा में सृजित किए गए हैं, लेकिन नगर-निगम क्षेत्र के अंतर्गत विभागों ने कोई भी काम नहीं किया जिससे जनता परेशान है। उन्होंने कहा है कि किसी भी तरह के विकास कार्य ना होने से जनता का सरकार और पार्टी के प्रति उदासीनता बढ़ रही है जो कि चिंताजनक है।