Home अपना उत्तराखंड घर बैठे मोबाइल एप से करें चारधाम यात्रा का पंजीकरण…

घर बैठे मोबाइल एप से करें चारधाम यात्रा का पंजीकरण…

1367
SHARE

7 मई को यमुनोत्री और गंगोत्री के कपाट खुलने के साथ ही विधिवत रूप से चारधाम यात्रा के शुरुआत हो जायेगी इसके बाद 9 मई को केदारनाथ और 10 मई को बद्रीनाथ के कपाट खुलने हैं। चारधाम यात्रा शुरू करने से पहले हर तीर्थ यात्री को अपना यात्रा रजिस्ट्रेशन करना अनिवार्य होता है और जिसके लिए उसे लाइन में रहकर इन्तेजार करना पड़ता था। अधिक भीड़ होने के कारण कई बार तो यात्रियों को घंटों लाइन में बिताने को मजबूर होना पड़ जाता है। लेकिन अब उत्तराखंड सरकार एक ऐसी ब्यवस्था करने जा रही है जिसके बाद से यात्रियों को इस झंझट से राहत तो मिलेगी ही साथ ही अनेक महत्वपूर्ण जानकारियाँ भी प्राप्त होंगी।

यात्रियों को बेहतर सुविधा देने के लिए उत्तराखंड पर्यटन विकास परिषद ने पंजीकरण के लिए ‘उत्तराखंड टूरिज्म’ मोबाइल एप शुरू कर दिया है। वहीं, यात्रियों को एसएमएस के जरिये भी मौसम, पैदल मार्गों पर होने वाले भूस्खलन, वनाग्नि जैसी घटनाओं की पूर्व सूचना प्रदान की जाएगी। मोबाइल एप से रजिस्ट्रेशन तथा डी-रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया के जरिए निश्चित समय में एक धाम के मार्ग में पड़ने वाले क्षेत्र में मौजूद यात्रियों की वास्तविक संख्या की भी जानकारी प्राप्त की जा सकती है। चारधाम यात्रा में मोबाइल एप प्रयोग से यात्रियों और जिला आपदा क्रियान्वयन केंद्रों के बीच समन्वय स्थापित करने और सूचनाओं को शीघ्र पहुंचाने पर चर्चा की गई। पर्यटन सचिव ने कहा कि मोबाइल एप के माध्यम से चारधाम यात्रा पर आने वाले यात्री घर बैठे यात्रा के लिए पंजीकरण कर सकते हैं। इससे यात्रियों को पंजीकरण करने के लिए लाइन में खड़ा नहीं होना पड़ेगा।

चारधाम यात्रा मार्ग में मिलने वाली सुविधाओं की भी जानकारी भी यात्रियों को एप के द्वारा दी जाएगी। वहीं, मुख्य मार्ग के अतिरिक्त संपर्क मार्ग व वैकल्पिक मार्गों से संबंधित जानकारियों तथा सुविधाओं को अपलोड किया जाएगा। उत्तराखंड पर्यटन विकास परिषद की ओर से तैयार किए गए ‘उत्तराखंड टूरिज्म’ मोबाइल एप को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं। कुछ औपचारिक प्रश्नों के उत्तर देने के बाद इस एप्लीकेशन को आसानी से अपने मोबाइल में इंस्टॉल किया जा सकता है। मोबाइल एप के द्वितीय चरण में चारधाम यात्रा के अतिरिक्त अन्य प्रमुख गंतव्यों से संबंधित जानकारी के व्यापक प्रचार-प्रसार करने की योजना है। ऐसा हो जाने पर राज्य में आने वाले यात्रियों को विभिन्न महत्वपूर्ण गंतव्यों के संबंध में एकदम सटीक जानकारी प्राप्त की जा सकेगी।