Home उत्तराखंड और कितनी गर्भवतियों की जान लेगी प्रदेश की खस्ताहाल स्वास्थ्य व्यवस्था।

और कितनी गर्भवतियों की जान लेगी प्रदेश की खस्ताहाल स्वास्थ्य व्यवस्था।

221
SHARE

प्रदेश में स्वास्थ्य लचर स्वास्थ्य व्यवस्थाओं ने एक सप्ताह के भीतर दो गर्भवती महिलाओं की जान ले ली। पहला मामला चमोली जनपद के गैरसैंण का है तो वहीं दूसरा मामला अल्मोड़ा जनपद से है। एक सप्ताह के अंदर दो गर्भवती महिलाओं की मौत से प्रदेश में आक्रोश व्यापत है। लोगों ने पहाड़ की स्वास्थ्य व्यवस्था सुधारने की मांग की है और उक्त मामलों में दोषियों को सजा देने की मांग की है।

प्रदेश की लचर स्वास्थ्य व्यवस्थाओं के खिलाफ आज कांग्रेसियों ने देहरादून में स्वास्थ्य महानिदेशालय में धरना प्रदर्शन किया। कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना के नेतृत्व में कांग्रेस ने निदेशालय के बाहर धरना दिया और स्वास्थ्य महानिदेशक को ज्ञापन सौंपा।

कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना ने कहा कि आज हमने प्रदेश की खस्ताहाल स्वास्थ्य व्वस्थाओं के खिलाफ धरना प्रदर्शन किया। हाल में गैरसैंण में 21 वर्षीय गर्भवती की लापरवाही के कारण व अल्मोड़ा में 25 वर्षीय गर्भवती की कोरोना की आशंका के कारण इलाज नहीं मिलने से मौत हो गई, जो कि बहुत दुखदायी और चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि हमने डीडी हैल्थ को ज्ञापन सौंपा है और स्वास्थ्य व्यवस्था सुधारने की मांग की है। उन्होंने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री स्वंय स्वास्थ्य मंत्री भी हैं उनके रहते प्रदेश में स्वास्थ्य व्यवस्था खस्ताहाल हो चुकी है, यदि जल्द व्यवस्थाएं नहीं सुधारी गई तो कांग्रेस पूरे प्रदेश में सड़कों पर उतरकर आन्दोलन करेगी।

बता दें कि बीते 18 अगस्त को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गैरसैंण में इलाज में लापरवाही के चलते प्रसव के दौरान जच्चा-बच्चा दोनों की मौत हो गई थी। तो वहीं 21 अगस्त को अल्मोड़ा में कोरोना की आशंका के चलते गर्भवती को भर्ती नहीं किए जाने से 3-3 अस्पतालों में भटकना पड़ा था समय से इलाज नहीं मिलने के कारण उसकी भी मौत हो गई थी।