Home खास ख़बर ड्राईविंग लाइसेंस टेस्ट देने में कांप रहे हैं हाथ-पांव।

ड्राईविंग लाइसेंस टेस्ट देने में कांप रहे हैं हाथ-पांव।

327
SHARE

दिसंबर माह से परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस बनाने के लिए टेस्ट आईडीटीआर झाझरा में शिफ्ट किया गया है। इंस्टीट्यूट ऑफ ड्राइविंग एंड ट्रैफिक रिसर्च (आईडीटीआर) के ट्रैक पर दोपहिया वाहन चलाने का टेस्ट देने वाले आवेदकों में से रोजाना 50 फीसदी आवेदक टेस्ट पास नहीं कर पा रहे हैं।यहां ट्रैक पर दोपहिया चलाना पड़ रहा है, अधिकांश आवेदकों का ट्रैक पर संतुलन बिगड़ रहा है इसमें महिलाओं की संख्या अधिक है, दोपहिया वाहनों के ड्राइविंग लाइसेंस के लिए टेस्ट पहले आरटीओ दफ्तर में होता था, यहां टेस्ट लेने की कोई सुविधा नहीं थी, लेकिन जब से टेस्ट झाझरा शिफ्ट हुआ है तब से 50 फीसदी आवेदक फेल हो रहे हैं, यहां अंग्रेजी के आठ आकार का ट्रैक बना हुआ है, इस पर दोपहिया चलाना पड़ता है, ट्रैक पर सेंसर लगे हुए हैं सबसे ज्यादा आवेदक घुमाव पर स्कूटर और बाइक घुमा नहीं पा रहे हैं, घुमाने के लिए उनको पांव जमीन पर रखना पड़ रहा है, इसमें महिलाओं की संख्या ज्यादा है। दो से 10 दिसंबर तक झाझरा में दोपहिया के लिए 496 आवेदकों ने टेस्ट दिया है इसमें 293 टेस्ट पास कर पाए।