Home उत्तराखंड कोरोना से जुड़ी हर जानकारी दे रहा है यह ऐप, उत्तराखंड में...

कोरोना से जुड़ी हर जानकारी दे रहा है यह ऐप, उत्तराखंड में 10 लाख से अधिक लोगों ने किया डाउनलोड़।

222
SHARE

कोरोना वायरस महामारी की रोकथाम व बचाव के लिए देशभर में 03 मई तक लॉकडाउन घोषित किया गया है, साथ ही सरकार कोरोना से जंग के लिए कई प्रयास कर रही है, इन प्रयासों में लोगों को स्वच्छता अपनाने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की सलाह दी जा रही है, साथ ही मास्क व सैनिटाइजर का प्रयोग करने की सलाह भी दी जा रही है। कोरोना महामारी से लोग किस तरह अपना बचाव कर सकते हैं, तथा कोरोना से जुड़ी जानकारियां घर बैठे प्राप्त कर सकें इसके लिए भारत सरकार के सहयोग से Aarogyasetu नाम का स्मार्टफोन ऐप लॉच किया गया है।

यह ऐप आपको बताएगा कि आप किसी कोरोना वायरस (covid-19) संक्रमित व्यक्ति के पास से गुजरे हैं या फिर संपर्क में आए हैं। आरोग्य सेतु ऐप एंड्रॉयड स्मार्टफोन और आईफोन दोनों के लिए उपलब्ध है। यह ऐप ब्लूटूथ, लोकेशन, और मोबाइल नंबर की मदद से चैक करता है कि आप किसी ऐसे व्यक्ति के संपर्क में तो नहीं आए, जिसमें कोरोना संक्रमण मिला हो, ऐप में और भी महत्वपूर्ण जानकारी जैसे covid-19 हैल्प सेंटर्स और सेल्फ असेसमेंट टेस्ट शामिल हैं, जिससे आप चेक कर सकते हैं कि आप पर इस संक्रमण का खतरा तो नहीं है। साथ ही ऐप देशभर में कोरोना संक्रमितों की संख्या की जानकारी भी दे रहा है। आप इससे राज्यवार भी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

देश के साथ ही उत्तराखंड में भी लोगों ने आरोग्य सेतु ऐप खूब पसंद किया है, प्रदेश में अब तक 10 लाख से अधिक लोगों द्वारा आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड़ किया जा चुका है। प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत भी प्रदेशवासियों से ऐप डाउनलोड करने सी अपील कर चुके हैं।

आरोग्य सेतु ऐप में आपको सेल्फ असेसमेंट टेस्ट का ऑप्शन भी दिया गया है। यहां आसान सवालों के आपको जवाब देने होंगे और पता लग जाएगा कि आपको कोरोना संक्रमण होने का खतरा है या फिर आप सुरक्षित हैं।

ऐप में यह भी बताया गया है कि यदि आप में कोरोना वायरस संक्रमण से जुड़े लक्षण जैसे लगातार बुखार, खांसी और सांस लेने में तकलीफ दिखाई दे तो आपको क्या करना चाहिए, यह सेल्फ आइसोलेशन के बारे में भी यूजर्स को जानकारी देता है।

कोरोना वायरस ट्रैकर आरोग्य सेतु ऐप 11 भारतीय भाषाओं में उपलब्ध है। इसमें इंग्लिश, हिन्दी, गुजराती, तमिल, तेलगु, कन्नड, मलयालम, उडिया, मराठी, बांग्ला और पंजाबी शामिल हैं।