Home उत्तराखंड राज्य स्थापना दिवस पर एक तरफ जश्न, तो दूसरी तरफ राज्य आंदोलनकारियों...

राज्य स्थापना दिवस पर एक तरफ जश्न, तो दूसरी तरफ राज्य आंदोलनकारियों में आक्रोश।

233
SHARE

राज्य स्थापना दिवस के 20 वर्ष बाद भी राज्य निर्माण के सवालों का समाधान न होने पर राज्य आंदोलनकारियों ने आक्रोश जताते हुए शहीद पार्क लखनपुर में धरना दिया तथा संकल्प लिया कि जब तक राज्य निर्माण के सवाल समान शिक्षा, सबको स्वास्थ्य, सबको रोजगार, पहाड़ का पानी, पहाड़ की जवानी, गैरसैंण राजधानी नहीं बन जाती है, राज्य निर्माण के सवालों का समाधान नहीं हो जाता संघर्ष जारी रहेगा।

शहीद पार्क लखनपुर में राज्य आंदोलकारी प्रभात ध्यानी के संचालन में हुई सभा में वक्ताओं ने इस बात को लेकर आक्रोश दिखा कि 20 साल पूर्व जो अस्पताल, स्कूल स्थापित थे आज वहां अध्यापक, डॉक्टर, पैरामेडिकल स्टाफ, कर्मचारी ना होने से वीरान पड़े हुए हैं। गांव में मूलभूत सुविधाएं, रोजगार ना होने के कारण पलायन बदस्तूर जारी है। देश को पानी बिजली देने वाला अपना उत्तराखंड खुद प्यासा है तथा महंगी बिजली लेने को त्रस्त है। राजधानी गैरसैण, परिसीमन, खटीमा, मंसूरी मुजफ्फरनगर कांड के दोषियों को सजा, जल, जंगल, जमीन पर जनता के अधिकार सपना बनकर रह गया है।

वक्ताओं ने आह्वान किया कि शहीदों के सपनों को साकार करने के लिए, राज्य की अवधारणा को लागू करने के लिए जनता को एक बार फिर से सड़कों पर उतरना पड़ेगा। इस अवसर पर राज्यआंदोलनकारियों ने शहीद एवं दिवंगत राज्य आंदोलकारियों को याद करते हुए श्रद्धांजलि दी।