Home अपना उत्तराखंड अल्मोड़ा अल्मोड़ा- जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया ने चौपाल लगाकर सुनी ग्रामीणों की समस्याएं।

अल्मोड़ा- जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया ने चौपाल लगाकर सुनी ग्रामीणों की समस्याएं।

366
SHARE

जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया ने बृहस्पतिवार को विकासखण्ड धौलादेवी के दूरस्थ गाॅव चगेठी पहुॅचकर लोगो की समस्यायें सुनी। गाॅव पहुॅच कर स्थानीय लोगो ने फूल मालाओं के साथ उनका भव्य स्वागत किया। जिलाधिकारी ने कस्तूरबा गाॅधी बालिका आवासीय विद्यालय चगेठी में चैपाल लगाकर देर रात तक लोगो की समस्यायें सुनी और इस दौरान उपस्थित अधिकारियों को त्वरित निस्तारण के निर्देश दिये।

ग्रामीणों द्वारा जिलाधिकारी के गाॅव में चैपाल लगाने पर उनका हार्दिक धन्यवाद किया और कहा कि उनके द्वारा लगायी गयी चैपाल से कई वर्षों की समस्याओ के समाधान होने की आस जगी है। ग्रामीणों द्वारा अवगत कराया गया कि क्षेत्र में पेयजल की समस्या काफी लम्बे समय से बनी हुई है साथ ही वर्तमान में संचालित पेयजल योजना का वितरण ठीक से नहीं होने के कारण जिससे कई परिवारों को पेयजल उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। जिलाधिकारी ने तत्काल संज्ञान लेते हुए अधिशासी अभियन्ता जल संस्थान एवं जल निगम को व्यवस्था को ठीक करने के निर्देश दिये। उन्होंने अधिकारियों से दोबारा गाॅव का भ्रमण कर लोगो के साथ बैठक करते हुए उनकी माॅग के अनुसार अतिरिक्त पेयजल टैंक बनाने के निर्देश दिये। इसके साथ ही जिलाधिकारी ने कहा कि जल जीवन मिशन के अन्तर्गत छूटे हुए परिवारों का पेयजल उपलब्ध कराया जाय।

चैपाल के दौरान ग्रामीणों ने काफलीखान-भनोली मोटर मार्ग के डामरीकरण करने की माॅग की। जिस पर जिलाधिकारी ने प्रस्ताव बनाकर शासन को प्रेषित करने के निर्देश लोनिवि के अधिकारियों को दिये। ग्राम चगेठी के कई तोको मे विद्युत लाईन झूलने की शिकायत पर जिलाधिकारी ने अधिशासी अभियन्ता विद्युत को तत्काल विद्युत लाईनों को ठीक करते हुए उपजिलाधिकारी को रिर्पोट प्रस्तुत करने के निर्देश दिये। ग्राम गुणादित्य के तोक स्वाड़ी में भी विद्युत लाईनों को ठीक करने के निर्देश उन्होंने अधिकारियों को दिये। भनोली से चैड़ीखान मोटर मार्ग का सर्वे कई वर्षों पूर्व हो चुका है लेकिन अभी तक इसका प्रस्ताव प्रेषित न किये जाये पर जिलाधिकारी ने कहा कि यथाशीघ्र उक्त मार्ग का प्रस्ताव शासन को प्रेषित किया जायेगा। वहीं जूनियर हाईस्कूल के समीप ट्रान्सफार्मर हटाये जाने के सम्बन्ध में ग्रामीणों द्वारा जिलाधिकारी को अवगत कराया गया। जिस पर उन्होंने अधिशासी अभियन्ता को 15 दिन के भीतर ट्रान्सफार्मर हटाने के निर्देश दिये। उन्होंने बी0डी0ओ0 को महिला समूह बनाने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने कहा कि यह क्षेत्र प्राकृतिक सौन्दर्य से भरपूर है स्थानीय लोगो को पर्यटन की दृष्टि से अपने घरों को में होमस्टे आदि बनाने का विचार करना चाहिए जिससे यहाॅ पर पर्यटक आयें और प्राकृतिक सौन्दर्य का लुफ्त लें।

इस अवसर पर उन्होंने कस्तूरबा गाॅधी बालिका विद्यालय का भी निरीक्षण किया और व्यवस्थायें देखी। जिलाधिकारी ने अपने अनटाईड फण्ड से विद्यालय हेतु 05 लाख रू0 दिये। उन्होंने उपजिलाधिकारी को इन 05 लाख रू0 से आवश्यक संसाधन उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। वहीं जिलाधिकारी ने विद्यालय हेतु स्थायी वार्डन यथाशीघ्र उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया। इस दौरान उपजिलाधिकारी मोनिका, तहसीलदार कुलदीप पाण्डे, बी0डी0ओ0 उमेद गैड़ा, क्षेत्र पंचायत सदस्य गोधन राम, ग्राम प्रधान पूजा चैहान, समाज कल्याण अधिकारी राजीव नयन तिवारी, खण्ड शिक्षाधिकारी चन्दन सिंह बिष्ट, अधिशासी अभियन्ता विद्युत कन्हैया लाल मिश्रा, सहायक अभियन्ता जल संस्थान मुकेश कुमार, विनोद कुमार राठौर के अलावा अन्य अधिकारी व स्थानीय लोग उपस्थित थे।