Home खास ख़बर स्कूलों के बाद स्वास्थ्य मंत्रालय ने परीक्षाओं के लिए भी जारी किए...

स्कूलों के बाद स्वास्थ्य मंत्रालय ने परीक्षाओं के लिए भी जारी किए दिशा-निर्देश।

536
SHARE

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना काल में आयोजित की जा रही परीक्षाओं के लिए नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। मंत्रालय के दिशा-निर्देशों में शारीरिक दूरी रखने, मास्क लगाने, समय-समय पर हाथ धोने और अल्कोहल युक्त हैंड सैनिटाइजर के इस्तेमाल की बात कही गई है। इसमें सभी को छींकते-खांसते समय मुंह ढंकने, अपनी सेहत पर नजर रखने और यहां-वहां नहीं थूकने का निर्देश दिया गया है। कंटेनमेंट जोन के परीक्षार्थियों की परीक्षा के लिए विश्वविद्यालयों, शिक्षण संस्थानों और परीक्षा एजेंसियों को अन्य विकल्पों पर विचार को कहा गया है।

इन बातों का रखना होगा ध्यान-

फेस कवर, मास्क और शारीरिक दूरी का पालन अनिवार्य, हैंड सैनिटाइजर औऱ हाथ साफ करने की रहेगी व्यवस्था, कंटेनमेंट जोन में स्थित परीक्षा केन्द्र नहीं खोले जाएंगे, ऐसे जोन से स्टाफ व परीक्षार्थी को भी आने की अनुमति नहीं होगी, बिना लक्षण वाले स्टाफ और परीक्षार्थी ही प्रवेश पाएंगे, भीड़ से बचने के लिए टुकड़ों में परीक्षाएं कराई जा सकती हैं, लक्षण पाए जाने पर आइसोलेट करने की व्यवस्था भी केन्द्र पर होगी।

स्वास्थ्य मंंत्रालय ने 13 सितंबर (रविवार) को आयोजित होने वाली नीट 2020 और अन्य परीक्षाओं के लिए भी एसओपी जारी की है। खास बात यह है कि अब नेशनल टेस्टिंग एजेंसी को एडमिट कार्ड के साथ-साथ छात्र अभिभावकों के लिए परीक्षा केन्द्र मेें क्या ला सकते हैं और क्या नहीं इसकी सूची अनिवार्य रूप से जारी करनी होगी। एनटीए ने परीक्षा केन्द्रों की संख्या बढ़ा दी है। अब 3863 केन्द्रों में परीक्षा आयोजित होगी।

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और नेशनल टेस्टिंग एजेंसी की एसओपी के तहत रविवार को नीट-2020 का आयोजन होगा। कागज और पेन पर आधारित नीट में छात्रों को स्वंय सत्यापित प्रमाण-पत्र देना होगी कि वे पॉजिटिव नहीं हैं। छात्र पैन घर से लेकर आएंगे, लेकिन आपस में आदान-प्रदान नहीं कर सकेंगे। बुखार, सर्दी, खांसी वाले छात्र या किसी भी अन्य कर्मी को परीक्षा केन्द्र के अंदर जाने की अनुमति नहीं होगी। यदि गेट पर कोई ऐसा पाया जाता है तो फिर कोविड-19 एजवाजरी के तहत उसे पास के स्वास्थ्य केन्द्र भेजा जाएगा। सभी को परीक्षा केन्द्र में तीन परत वाला मेडिकल मास्क औऱ ग्लब्स पहनकर ही परीक्षा देनी होगी। पानी की बोतल व अल्कोहल आधारित सैनिटाइजर लाने की अनुमति रहेगी।

परीक्षा केन्द्र में अंगूठे का निशान नहीं लगाय जाएगा। इसके लिए छात्र घर से सादे कागज पर अंगूठे का निशान लगाकर लाएंगे। क्यूआर कोड से छात्र का एडमिट कार्ट और पहचान पत्र स्कैन होगा। एनटीए ने एडमिट कार्ड के साथ-साथ छात्रों को स्लॉट के तहत आने का समय दिया है। इसमें 40 मिनट के एक स्लॉट में 80 छात्र केन्द्र पहुंचेंगे। जेईई में यह आंकड़ा सौ था। छात्रों से अपील की गई है कि कोविड-19 के चलते जांच मेटल डिटेक्टर के तहत होगी। इसके तहत महने, घड़ी, अंगूठी, चेन आदि जरूरी न हो तो न पहनें । इसके अवावा धार्मिक रिवाज के तहत कृपाण, मंगलसूत्र, बिछिया आदि पहनने वालों को समय से पूर्व परीक्षा केन्द्र पहुंचना होगा।