Home अपना उत्तराखंड उत्तराखंड : नौ जिलों के अस्पतालों में जल्द मिलेगी आईसीयू की सुविधा

उत्तराखंड : नौ जिलों के अस्पतालों में जल्द मिलेगी आईसीयू की सुविधा

372
SHARE
आपातकालीन सेवा में मरीजों को बेहतर इलाज देने के लिए प्रदेश सरकार जल्द ही नौ जिलों में इंटेंसिव केयर यूनिट (आईसीयू) स्थापित करेगी। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन और विश्व बैंक पोषित योजनाओं के माध्यम से आईसीयू के लिए धनराशि दी जाएगी।

अब तक प्रदेश के तीन सरकारी मेडिकल कॉलेजों समेत चार जनपदों के जिला अस्पतालों में आईसीयू की सुविधा है। लेकिन मरीजों की संख्या के हिसाब से आईसीयू में बेड कम पड़ रहे हैं। जिससे सरकार का प्रत्येक जनपद में जिला अस्पतालों में आईसीयू वार्ड स्थापित करने पर फोकस है।

स्वास्थ्य विभाग ने अल्मोड़ा, बागेश्वर, चमोली, रुद्रप्रयाग, ऊधमसिंह नगर, हरिद्वार, चंपावत, नैनीताल और दून मेडिकल कॉलेज में आईसीयू सेंटर खोलने की कवायद शुरू कर दी है। इन आईसीयू सेंटरों में आधुनिक उपकरणों व अन्य सुविधाओं के लिए विश्व बैंक पोषित और एनएचएम के माध्यम से बजट का प्रावधान किया जाएगा।

जिला स्तर पर मरीजों को हार्ट अटैक या अन्य गंभीर बीमारियों में आपात सेवाओं में आईसीयू में बेहतर इलाज मिल सकेगा। वर्तमान में दून, हल्द्वानी, श्रीनगर मेडिकल कॉलेजों समेत पिथौरागढ़, पौड़ी, उत्तरकाशी और टिहरी में आईसीयू की सुविधा शुरू कर दी गई है। जिसमें पिथौरागढ़ और पौड़ी जिला अस्पताल में हंस फाउंडेशन के माध्यम से आईसीयू वार्ड स्थापित किया गया है।

आईसीयू में ये सुविधाएं
गंभीर बीमारी से पीड़ित मरीजों को आईसीयू सुविधा दी जाती है। जहां पर मरीज की 24 घंटे गहन देखभाल की जाती है। आईसीयू वार्ड में वेंटिलेटर, हार्ट मॉनिटर, फीडिंग ट्यूब्स(खिलाने की नली), ड्रेंस और कैथेटर समेत तमाम आधुनिक चिकित्सा उपकरणों की सुविधा होती है।

सरकारी अस्पतालों में मरीजों को आपातकालीन सेवा में बेहतर इलाज उपलब्ध कराने के लिए प्रत्येक जिला स्तर पर आईसीयू बनाए जाएंगे। इसमें चार जनपदों के जिला अस्पतालों में आईसीयू शुरू हो चुके हैं।
-नितेश कुमार झा, सचिव, स्वास्थ्य विभाग