Home अपना उत्तराखंड 322 किताबों में 7 लाख से ज्यादा बार लिखा गायत्री मंत्र…बनाया विश्व...

322 किताबों में 7 लाख से ज्यादा बार लिखा गायत्री मंत्र…बनाया विश्व रिकॉर्ड

1433
SHARE
www.uihmt.com
शांतिकुंज की ओर से चलाए जा रहे गायत्री मंत्र लेखन अभियान में गुजरात के अरवल्ली जिले के मोडासा निवासी मंगलदास ईश्वरदास कडिया ने विश्व रिकॉर्ड बनाया। मंगलदास ने 2013 से वर्ष 2019 के बीच 7 लाख 72 हजार 8 मंत्रों का लेखन किया।

उन्होंने 322 गायत्री मंत्र लेखन किताबों का अनवरत लेखन किया है। विश्व रिकॉर्ड इंडिया की प्रमुख सदस्य भारवी पटेल ने इस आशय का प्रशस्ति पत्र और मेडल सोमवार को मोडासा में मंगलदास को सौंपा।

गायत्री मंत्र लेखन पर विश्व रिकॉर्ड बनने पर शांतिकुंज प्रमुख डॉ प्रणव पंड्या ने कहा कि गायत्री महामंत्र को सूर्य की उपासना के लिए सबसे सरल और फलदायी मंत्र माना गया है। यह महामंत्र निरोगी जीवन के साथ-साथ यश, प्रसिद्धि, धन और  ऐश्वर्य देने वाला है।

लेकिन, गायत्री महामंत्र का लेखन साधक को जप से कई गुना अधिक लाभ पहुंचाता है। यही कारण है कि गायत्री परिवार के असंख्य साधक इस अभियान में शामिल होकर लेखन कार्य में जुटे हैं।

उन्होंने कहा कि गायत्री परिवार गुजरात के मोडासा के मंगलदास ईश्वरदास कडिया द्वारा विश्व रिकार्ड बनाना एक गौरव प्रदान करने वाला है। इससे लोगों को भी प्रेरणा मिलेगी। संस्था की अधिष्ठात्री शैलदीदी शांतिकुंज परिवार सहित गायत्री चेतना केन्द्र मोडासा परिवार ने मंगलदास को बधाई दी।

वहीं, मंगलदास का कहना है कि गायत्री महामंत्र लेखन में विश्व रिकॉर्ड बनाना गायत्री परिवार के संस्थापक श्रीराम शर्मा आचार्यश्री, माता भगवती देवी शर्मा, डा. प्रणव पंड्या और शौलदीदी के मार्गदर्शन के बिना संभव नहीं था।